Home poem Pati se pareshan patni ka antim nirnay

Pati se pareshan patni ka antim nirnay

pati se pareshan patni ka antim nirnay.

 

Jahan samaj mein ek taraf kaha jata hai ki mahilaon ko devi swarup mana jata hai. Wahin dushri taraf jabhi mauka mile to purushon dwara apmanit karne mein koi kasar nahin chhoda jata hai.

Isi dard ko nimnawat kavita mein bayan kiya gaya hai. To aaiye is kavita ke bhav se rubru huwa jay.

Doston is purush pradhan desh men badha hi mushkil hota hai, jab ek patni apne pairo par khada hokar swabhiman se jina chahti hai .

galat ko galat aur sahi ko sahi  bolne ki himmat karti hai.Tab jante hai, yah samaaj yani manbadhe purush apni patniyon par atyachar karate hai.

Wah mahila isliye apna pura Jivan us bebhichari purush ke saath bita deti hai, ki log kya kahenge? Parantu kaise pati ke sath jivan bitane ki sochti  hai .is kavita Men nimnwat hai.

Kavita 

 

Jang abhi Baki hai yaron.
Jang abhi Baki hai.
            Baharwalon se nipatna aasan hai.
                  Gharwalo se kaise nipten.
  Bahar walo se ladna aasan hai.
Ghar walo se kaise laden
Bat abhi Baki hai
Jang……………,
Umar pachas ki ho gai.
Bachche bhi hai,
Waqt se jujhti,
Hatash Hun main,
Log Kya khenge?
Prashn chinh hai.
Prantu ,ab roj roj ke
Chik chik se ub chunki Hun mai,
Apno se laden to kaise laden
Aas abhi Baki hai.
Jang abhi……….
.Pati se pareshan patni ka antim nirnay.
Imthan me hmesha pas hui
Mehnat rang lai.
Aaj apne pairon pr khadi hoon
Jimmedariyan liye adi  hoon
Kabhi uf tak nhin Kiya .
Bs hmesha muskurate rahin hoon
Fir bhi is purush Pradhan desh men
Main main hoon tu tu hai
Sunte rhi hoo bhut huwa,
ab na koi behas hogi
Ab na koi tark hoga ,
ab na koi shart hogi.
Mere raste alag honge.
Tumre raste bhi alag honge.
Chhat bhi ek hoga par room alag honge.
Quki Jang abhi Baki h yaron.
Jang abhi baki  hai …….
Shayad waqt ke sath samay badal jayega
Waqt ke sath samay gujar jayega
Har pal intjar Kiya
Prantu o din ab nhi aaiyega.
Ab sirf Jang hi Jang hain
 Ab bas, jivan ke aakhiri pal Baki hain
Aakhiri pal Baki hai
Aakhiri pal Baki hai॰॰॰॰॰॰॰

             कविता 

जंग अभी बाकी है यारों ,
जंग अभी बाकी है I
बाहर वालों से निपटना आसान है,
घर वालों से कैसे निपटें?
बाहर वालों से लड़ना आसान है,
घर वालों से कैसे लडे़?
बात अभी बाकी है l
जंग अभी बाकी है यारों 
       जंग अभी बाकी है ।………….

 

उम्र पचास की हो गई,
बच्चे भी हैं !
वक्त से जुझती हतास हूँ मैं,
लोग क्या कहेंगे? प्रश्न चिन्ह है I
परंतु अब रोज रोज के,
चिक -चिक से उब चुकी हूं मैं I
अपनों से लडे़ तो कैसे  लडे?
क्योंकि आश अभी बाकी है I
जंग अभी बाकी है यारों 
जंग अभी बाकी है ।…………

 

परेशान पत्नी का अंतिम निर्णय 

 

इम्तिहान में हमेशा पास हुई, 
मेहनत रंग लाईl
आज अपने पैरों पर खड़ी हूं ,
जिम्मेदारियां लिए अड़ी  हूं I
कभी उफ तक नहीं किया,
हमेशा मुस्कुराते रही हूँ I
फिर भी इस पुरुष प्रधान देश में ,
मैं मैं हूँ,  तू तू  है,
सुनते रही हूँ , बहुत  हुआ l
अब ना कोई बहस होगी ,
अब ना कोई तर्क होगा I
अब ना कोई शर्त होगी,   
मेरे रास्ते अलग होंगे I
तुम्हारे रास्ते भी अलग होंगे I
छत भी एक होगा,
पर रूम अलग होंगे I
क्योंकि जंग अभी बाकी है यारों  
जंग अभी बाकी है ।………….

 

.शायद वक्त के साथ समय बदल जाएगा,
वक्त के साथ समय गुजर जाएगा I
हर पल इंतजार किया ,
परंतु अब ओ दिन नहीं आएगा I
अब सिर्फ जंग ही जंग है I
अब बस,  जीवन के आखिरी पल बाकी है I
आखिरी पल बाकी है  I
जंग अभी बाकी है यारों 
जंग अभी बाकी है I ………….
Note :nari teri yahin kahani, 
         yugon yugon se sabne jani .
धन्यवाद पाठको
रचना -कृष्णावती कुमारी 

 

 

नमस्कार, साथियों मैं Krishnawati Kumari इस ब्लॉग की krishnaofficial.co.in की Founder & Writer हूं I मुझे नई चीजों को सीखना अच्छा लगता है और जितना आता है आप सभी तक पहुंचाना अच्छा लगता है I आप सभी इसी तरह अपना प्यार और सहयोग बनाएं रखें I मैं इसी तरह की आपको रोचक और नई जानकारियां पहुंचाते रहूंगी।

Share this post




Stay Connected

604FansLike
2,458FollowersFollow
133,000SubscribersSubscribe

Must Read

Related Blogs

Share this post