Namaskar doston,

 JAB ANTARMAN MEN DWAND CHALE POEM /जब अन्तरमन में द्वन्द चले कविता 

antarman men dwand



Jab antar man me dwand chale
Tab koi nirnay mat lena

Kuchh chhodo niyati ke aage
Kuchh mukhiya upar taj Dena

Yah kalyug hai,
Yahan riston ka koi mole nhi.

Jab bhai bhai par tute
Tab dekh ganwar maze lute

Ab put kaput na koi kahe
Yha bap hi apna rang badle

Mata bhi rup kai badle
Sab riste Nate takh dharen

Jinka ho hath bada jag men
Sab gir pade unke pag men.
Sab mithya ke sang  dhawawat hain.

Jab Sach ki bari aawat hai
Tab nain feri sab bhagat hain.

Dhanyavad pathakon ,

   Rachna…. KRISHNAWATI KUMARI

हिन्दी में कविता

     जब अन्तर मन में द्वन्द चले

                     कविता

जब अन्तर मन में द्वन्द चले
तब कोई निर्णय मत लेना,कुछ छोड़ो नियति के आगे
कुछ मुखिया उपर तज देना

 

यह कलियुग है यहाँ
रिस्तों का कोई मोल नहीं,जब भाई भाई पर टूटे तब
देख गवाँर मजे लुटे

 

अब पूत कपूत कोई ना कहे
यहाँ बाप भी अपना रंग बदले,माता भी रुप कई बदलें
सब रिस्ते नाते ताख  धरे

 

जिनका हो हाथ बडा़ जग में
सब गिर पड़े उनके पग में
सब मित्थया  के संग धावत हैजब साँच की बारी आवत है
तब नैन फेरी सब भागत है

धन्यवाद पाठकों

             रचना -कृष्णावती  कुमारी

Read more

https://krishnaofficial.co.in/

 

Share this post

4 Replies to “Jab Antarman men dwand chale peom”

Leave a Reply